Sad New Shayari For You All Best Top 100+ Hindi Shayari - nowshayari.in
  • Breaking News

    Wednesday, 23 October 2019

    Sad New Shayari For You All Best Top 100+ Hindi Shayari

    Sad New Shayari For You All Best Top 100+ Hindi Shayari 

    New Hindi best shayari for Hindi and English,

    All shayari sad hindi for unique...



    मै कुछ ऐसा लिखूं की इश्क़ बयां हो जाएं।
    दफ़न  अरमां  तेरे  दिल की जवां हो जाएं।

    mai kuchh aisa likhoon...
          kee ishq bayaan ho jaen.
    dafan  aramaan  tere,
         dil kee javaan ho jaen.

          *****      *****     *****

    इधर - उधर  कहीं भी उपज जाता है।
    शक तो इंसानों में भी उपज जाता है।

    idhar - udhar  kaheen bhee upaj jaata hai.
    shak to insaanon mein bhee upaj jaata hai.

          *****      *****     *****

    मैंने  इश्क़ की ऐसी  कोई मजबूरी नहीं देखी।
    दिल के करीब रहकर दिल से दूरी नहीं देखी।

    mainne  ishq kee aisee  koee majabooree nahin dekhee.
    dil ke kareeb rahakar dil se dooree nahin dekhee.

          *****      *****     *****

    मै भी तन्हा महसूस  करता हूं तू देख तो।
    मै भी आसुं की धार बहाता हूं तू देख तो।

    mai bhee tanha mahasoos  karata hoon too dekh to.
    mai bhee aasun kee dhaar bahaata hoon too dekh to.

          *****      *****     *****

    कैसे  मै आपने  ख़्वाबों  को  हवा दूं।
    लौ-ए-चराग में कहीं दिल न जला दूं।

    kaise  mai aapane  khvaabon  ko  hava doon.
    lau-e-charaag mein kaheen dil na jala doon.

          *****      *****     *****

    ख़्वाब  क्यूं मेरी आंखे  इतना सजाती है।
    कांच तो एक दिन टूट के बिखर जाती है।

    khvaab  kyoon meree aankhe  itana sajaatee hai.
    kaanch to ek din toot ke bikhar jaatee hai.


          *****      *****     *****

    जीस्त को खुशनसीबी समझता है।
    वाह नादां दर्द को दवा समझता है।

    jeest ko khushanaseebee samajhata hai.
    vaah naadaan dard ko dava samajhata hai.
         *****      *****     *****

    हम कभी जो  खुद को संवर के देखते है।
    ऐसा लगता है खुद को मुकर के देखते है।

    ham kabhee jo  khud ko sanvar ke dekhate hai.
    aisa lagata hai khud ko mukar ke dekhate hai.

          *****      *****     *****

    किस कदर ख़ुद को हम खो कर बैठे है।
    भूल के जग  सारा यार के होकर बैठे है।

    kis kadar khud ko ham kho kar baithe hai.
    bhool ke jag  saara yaar ke hokar baithe hai.
          *****      *****     *****

    मेरे गम  मेरे चेहरे से ज़ाहिर नहीं होते।
    मेरे पांव मेरे चादर से बाहिर नहीं होते।

    mere gam  mere chehare se zaahir nahin hote.
    mere paanv mere chaadar se baahir nahin hote.
          *****      *****     *****

    मेरे आगे मेरी दुनियां दर बदर हुआ जाता है।
    दर्द दिल अब पहले से बेहतर हुआ जाता है।

    mere aage meree duniyaan dar badar hua jaata hai.
    dard dil ab pahale se behatar hua jaata hai.

          *****      *****     *****

    ये दुनियां तेरे मेरे खयालों सी कब थी।
    एक हम ही सच्चे थे ये सच्ची कब थी।

    ye duniyaan tere mere khayaalon see kab thee.
    ek ham hee sachche the ye sachchee kab thee.

          *****      *****     *****
    मौत मेरे कदमों की हर आहट पहचानती है।
     जैसे  मां  बच्चे  की हर चाहत पहचानती है।

          *****      *****     *****

    खुशियां मेरे नसीब में ऐसे तो मयस्सर न हुई।
    कभी मै उसका न हुआ  कभी वो मेरी न हुई।

    khushiyaan mere naseeb mein aise to mayassar na huee.
    kabhee mai usaka na hua  kabhee vo meree na huee.

           *****      *****     *****

    मिलना नसीब में था बिछड़ना इत्तेफ़ाक था।
    वो उतना दूर हो गया मेरे जितना करीब था।

     milana naseeb mein tha bichhadana ittefaak tha.
    vo utana door ho gaya mere jitana kareeb tha.   

             *****      *****     *****

    खयाल ए तलातूम
    तन्हाई औे हमतुम।

    khayaal e talaatoom
    tanhaee aue hamatum.

            *****      *****     *****

    बन्दा ए ख़ुदा हूं ख़ुदा खुद को कैसे मानूं?
    जो ना दिखता ना मिलता उसे कैसे मानूं?

    banda e khuda hoon khuda khud ko kaise maanoon?
    jo na dikhata na milata use kaise maanoon?

            *****      *****     *****

    बाद ज़ख़्म हां कोई मुस्कुरा रहा है।
    ज़रा देखो एक दीवाना आ रहा है।

    baad zakhm haan koee muskura raha hai.
    zara dekho ek deevaana aa raha hai.

            *****      *****     *****

    मेरी मुहब्बत मेरी जुबानी क्या सुनेंगी आप।
    झूठी मुहब्बत की कहानी क्या सुनेंगी आप।

    meree muhabbat meree jubaanee kya sunengee aap.
    jhoothee muhabbat kee kahaanee kya sunengee aap.

            *****      *****     *****

    न ख्वाहिश ना उम्मीद ना कोई तमन्ना है।
    हां एक बार उससे मिल कर बिछड़ना है।

    na khvaahish na ummeed na koee tamanna hai.
    haan ek baar usase mil kar bichhadana hai.

            *****      *****     *****

    अब हाल कुछ यूं है कि कहा न जाए।
    दर्द ए दिल जय तो अब सहा न जाए।

    ab haal kuchh yoon hai ki kaha na jae.
    dard e dil jay to ab saha na jae.

            *****      *****     *****

    मेरी ही खता थी और वो दूर हो गए।
    हाय बदनसीब अब मनाया न जाए।

    meree hee khata thee aur vo door ho gae.
    haay badanaseeb ab manaaya na jae.

            *****      *****     *****

    जोश ओ जुनू की हद देखना है।
    मुझे  आसमां का कद देखना है।

    josh o junoo kee had dekhana hai.
    mujhe  aasamaan ka kad dekhana hai.

            *****      *****     *****

    मां जब अपने आंचल से मुझे हवा देती है।
    पिता की बाहें आसमां तक पहुंचा देती है।

    maan jab apane aanchal se mujhe hava detee hai.
    pita kee baahen aasamaan tak pahuncha detee hai.

            *****      *****     *****

    मेहनत गरीबों के पेशानी से टपकती रहती है।
    मगर मजदूर के हाथों में निवाले कहां रहती है।

    mehanat gareebon ke peshaanee se tapakatee rahatee hai.
    magar majadoor ke haathon mein nivaale kahaan rahatee hai.

            *****      *****     *****

    जोश भर दें लस्कर में ऐसी दहाड़ होती है।
    सर्द में भी फ़ौजियों के खून जवां रहती है।

    josh bhar den laskar mein aisee dahaad hotee hai.
    sard mein bhee faujiyon ke khoon javaan rahatee hai.

            *****      *****     *****

    ऐसा होता की तेरी महफ़िल में हम न होते
    काश जहां की रंज-ओ-गम में हम न होते।

    aisa hota kee teree mahafil mein ham na hote
    kaash jahaan kee ranj-o-gam mein ham na hote.

            *****      *****     *****

    दिल ए दहलीज पे सबका आना-जाना लगा रहता है।
    रूह से हो मुलाक़ात फ़िराक़ में दीवाना लगा रहता है।

    dil e dahaleej pe sabaka aana-jaana laga rahata hai.
    rooh se ho mulaaqaat firaaq mein deevaana laga rahata hai.

            *****      *****     *****

    ये शालूक ए जिंदगी ये इलाज़ ए ग़म यूं ही नहीं सीखा।
    ग़मो से दिल्लगी, ये लफ्जो से खेलना यूं ही नहीं सीखा

    ye shaalook e jindagee ye ilaaz e gam yoon hee nahin seekha.
    gamo se dillagee, ye laphjo se khelana yoon hee nahin seekha

            *****      *****     *****

     जों गमों को भरमा के रखता हूं।
    एक चिंगारी दिल में दबा के रखता हूं।

     jo gamon ko bharama ke rakhata hoon.
    ek chingaaree dil mein daba ke rakhata hoon.

            *****      *****     *****

      मै बहुत अकेला हूं मुझे इक सहारा चाहिए।
    तुम दे सकती हो,मुझे साथ तुम्हारा चाहिए।

    mai bahut akela hoon mujhe ik sahaara chaahie.
    tum de sakatee ho,mujhe saath tumhaara chaahie.

            *****      *****     *****

    मै बर्बादी के किस कगार पे आ गया हूं ख़ुदा।
    डूब  रहा हूं मै  मुझे अब एक किनारा चाहिए।

    mai barbaadee ke kis kagaar pe aa gaya hoon khuda.
    doob  raha hoon mai  mujhe ab ek kinaara chaahie.

            *****      *****     *****

    यूं उलझी है जिंदगी की डोर अब सुलझे कैसे।
    सुलझाने  को उलझने  जिंदगी दुबारा चाहिए।

    yoon ulajhee hai jindagee kee dor ab sulajhe kaise.
    sulajhaane  ko ulajhane  jindagee dubaara chaahie.

            *****      *****     *****

    ये जहां जो बख्शी है बस अज़ाब ही बख़्शी है।
    बहुत  जी लिया अब  इक जहां  प्यारा चाहिए।

    ye jahaan jo bakhshee hai bas azaab hee bakhshee hai.
    bahut  jee liya ab  ik jahaan  pyaara chaahie.

            *****      *****     *****

    मीठी ज़ुबां और मीठे लोगो से ख़ुदा बचाए।
    अब हाल ये है जय, शहद भी खारा चाहिए।

    meethee zubaan aur meethe logo se khuda bachae.
    ab haal ye hai jay, shahad bhee khaara chaahie.

            *****      *****     *****  

     कलम-ए- यार  की खूं  बहाती हैं
    दिल रोता हैं तो आँखे मुस्कुरती हैं

    kalam-e- yaar  kee khoon  bahaatee hain
    dil rota hain to aankhe muskuratee hain

            *****      *****     *****

    जो भी होगा  तेरा वो बेवफा  होगा
    जान ले तु  तेरा  सिर्फ खुदा  होगा

    jo bhee hoga  tera vo bevapha  hoga
    jaan le tu  tera  sirph khuda  hoga

            *****      *****     *****

    क्यू दाग दामन के पोछते हो साहेब
    मोहब्बत हुआ अब क्या परसा होगा

    kyoo daag daaman ke pochhate ho saaheb
    mohabbat hua ab kya parasa hoga

            *****      *****     *****

    रहनुमायी भी  सही  जग  हसाई  भी सही
    डर कैसा तु निकल शाकी सिर्फ ज़माना होगा

    rahanumaayee bhee  sahee  jag  hasaee  bhee sahee
    dar kaisa tu nikal shaakee sirph zamaana hoga

            *****      *****     *****

    चल दिये उठ के कहाँ ये भी  पुछेंगे बहूत
    सब बताना  मगर चाँद सिर्फ  बहाना होगा

    chal diye uth ke kahaan ye bhee  puchhenge bahoot
    sab bataana  magar chaand sirph  bahaana hoga

            *****      *****     *****

    सबको भाती हैं  चमन की खुशबू बहुत
    गुलो का होगा गर कोई तो सिर्फ बागवां होगा

    sabako bhaatee hain  chaman kee khushaboo bahut
    gulo ka hoga gar koee to sirph baagavaan hoga

            *****      *****     *****

    रात भर चाँद को तकता  रहा लिए आश यही
    किसी  रोज़  तो  ये  सिर्फ  हमारा  होगा

    raat bhar chaand ko takata  raha lie aash yahee
    kisee  roz  to  ye  sirph  hamaara  hoga

            *****      *****     *****




    No comments:

    Post a comment

    Please do not enter any spem links in the comment box

    Popular Posts

    Contact Form

    Name

    Email *

    Message *

    Follow by Email