latest Unique Shayari In Hindi #1 New Shayari - nowshayari - nowshayari.in
  • Breaking News

    Thursday, 31 October 2019

    latest Unique Shayari In Hindi #1 New Shayari - nowshayari

      New and latest Unique shayari in hindi read now. All shayari latest, unique, new in this site.

    All shayari is best choice n hindi and hinglish, lots of categories shayari for your mood .


    Kaash... Unko Kabhi Fursat Me Ye Khayal Aaye,
    Ki Koi Yaad Krta Hai Unhe Zindagi Samjhker.
    काश ... उनको कभी फुर्सत में ये ख्याल आए,
    कि कोई याद करता है उन्हें जिंदगी समझकर..



    pic shayari
    Letest Shayari
     Uski  Hasrat Ko Mere Dil Me Likhne Wale,
    Kaash Use Bhi Mere Naseeb Me Likha Hota.
    उसकी हसरत को मेरे दिल में लिखने वाले,
    काश उसे भी मेरे नसीब में लिखा होता।

    Jane Kyu Hame Asu Bahana Hai Ata
    Jane Kyu Hale Din Batana Nahi Ata
    Kyu Sathi Bichhad Jate Hai Hamse
    Shayad Hame Hi Sath Nibhana Nahi Ata
    जाने क्यों हमें आंसू बहाना है आता
    जाने क्यों हालेदिल बताना नहीं आता
    क्यों साथी बिछड़ जाते है हमसे
    शायद हमें ही साथ निभाना नहीं आता ।

    Ab Na Main Hun, Na Baaki Hai Zamane Mere,
    Fir Bhi MashHoor Hain Shaharon Mein Fasane Mere,
    Zindagi Hai Toh Naye Zakhm Bhi Lag Jayenge,
    Ab Bhi Baaki Hain Kayi Dost Puraane Mere.
    अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​,
    फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​,
    ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​,
    अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।

    Surat Wo Jo Din Bhar Asman Ka Sath De
    Chand Wo Jo Raat Bhar Taron Ka Sath De
    Pyar Wo Jo Zindagi Bhar Sath DE
    Or Dost Wo Jo Pal Pal Mai Sath DE
    सूरज वो जो दिन भर आसमान का साथ दे
    चाँद वो जो रात भर तारों का साथ दे
    प्यार वो जो ज़िंदगी भर साथ दे
    और दोस्ती वो जो पल पल साथ दे |

    Use Ab Ke Wafaon Se Gujar Jaane Ki Jaldi Thi,
    Magar Iss Baar Mujhko Apne Ghar Jaane Ki Jaldi Thi,
    Main Aakhir Kaun Sa Mausam Tumhare Naam Kar Deta,
    Yehan Har Ek Mausam Ko Gujar Jaane Ki Jaldi Thi.
    उसे अब के वफ़ाओं से गुजर जाने की जल्दी थी,
    मगर इस बार मुझ को अपने घर जाने की जल्दी थी,
    मैं आखिर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता,
    यहाँ हर एक मौसम को गुजर जाने की जल्दी थी।

    No comments:

    Post a comment

    Please do not enter any spem links in the comment box

    Popular Posts

    Contact Form

    Name

    Email *

    Message *

    Follow by Email