Latest Hindi Sad Shayari, Broker Heart Collection New Quotes- - nowshayari.in
  • Breaking News

    Friday, 13 September 2019

    Latest Hindi Sad Shayari, Broker Heart Collection New Quotes-

     Sad Hindi Shayari

               Are u read love sad shayari in hindi here. All shayari sad post by hindi and english both. This shayari collection you have posted whatsApp status, Instagram, google plus etc. 





           Latest sad quote's and best shayari for you, enjoy read and share your other friends. Let's read now.
    -----------------------------------–----------------
    आज भी इस उम्मीद से सिगरेट पीते हैं यारों…
    कभी तो जलेगी सीने में रखी तस्वीर उसकी…
    Aaj bhi is ummid me cigarette pite he yaaro,
    Kabhi to jalegi sine me rakhi tasvir uski...
    =============================
    मत दो मुझे खैरात उजालों की,
    अब खुद को सूरज बना चुका हूं मैं..
    Mat do muje kherat ujalo ki,
    Ab khud ko suraj bana chuka hu me..!
    =============================


    उठते बैठते बस एक ही ख़याल हुआ,
    क्यूँ जीना भी इस क़दर मुहाल हुआ।
    लुटती आबरू  पर चुप  रहते हैं सभी,
    ख़ामो ख़्वाह की बातों पर बवाल हुआ।
    Uthte bethte bas aek hi kyal huaa,
    Q jina bhi is kdar muhal huaa...!
    Lutti abru par chup rahte he sabhi,
    Kham khvah ki bato par bval huaa.
    =============================
    जलाते हैं रावण ख़ुद अपने ही बुत,
    तमाशा  ये  देखो  हर  साल हुआ।
    जुबाँ  शीरीं  और  हाथ  में  खंज़र,
    "विश्वास" करना भी इक सवाल हुआ।
    Jlate he ravan khud apne hi bhut,
    Tmasha ye Dekho har shal huaa.
    Juba shiri or hath me khnjar,
    "Visvas" Karna bhi ek saval huaa.
    =============================
    सोचता  हूँ  बन  जाऊँ  नासेह  मैं भी,
    उतरा जो इस धंधे में, मालामाल हुआ।
    घोटाले  बने  हैं  सीढ़ी  तरक्की  की,
    सियासत का ये खेल भी कमाल हुआ।
     Sochta hu ban jau naseh me bhi,
    Utra Jo es dhndhe me, malamal huaa.
    Ghotale bane he sidi trakki  ki,
    Siyast ka ye khel bhi Kamal huaa.
    =============================
     कुछ वो भी आंखें नम लिए थे, 
                कुछ हम भी रोना चाहते थे !!
    जब एहसान तले दबे थे रिश्ते !
        कुछ वो भी उलझन झेले थे,
           कुछ हम भी सुलझना चाहते थे !!
    Kuch vo bhi ankhe num liye the,
    Kuch hum bhi rona chahte the.
    Jab ehsas tale dabe the riste,
    Kuch vo bhi uljan jele the,
    Kuch hum bhi sulaj na chahte the.
    =============================
       कुछ वो भी चुप्पी साधे थे,
                कुछ हम भी तन्हा चाहते थे !!
    दूरियां बढ़ रही थी उनसे !
        कुछ वो भी रोके ना थे हमको,
               कुछ हम भी जाना चाहते थे !!
    Kuch vo bhi chupi sadhe the,
    Kuch hum bhi tnha  chahte the..
    Duriya badh rahi thi unse,
    Kuch vo bhi roke na the humko,
    Kuch hum bhi Jana chahte the..
    =============================
        कुछ वो भी पलट के लेटे थे,
             कुछ हम भी करवट चाहते थे !!
          जंग लगा था जब रिश्तो में !
                कुछ वो भी खंजर  घोपे  थे ,
       कुछ हम भी मरना चाहते थे...                                  -सन्दीप डेलू
    Kuch vo bhi palat ke lete the,
    Kuch hum bhi karvte chahte the..
    Jang laga tha jab risto me!!
    Kuch vo bhi khnjar dhope the,
    Kuch hum bhi marna chahte the...
    =============================
    जीने की तमन्ना है तेरे साथ जरूरी है..
    एक तेरे बिना मेरी हर शाम अधूरी है..!
    June ki tamnna he tere sath jaruri si he,
    Ek tere Bina meri har syam adhuri si he.
    =============================
    अंधेरा रहा हर दिल जो.  
                शाम गई तेरे बिन
    पर शाम यह जो है 
        इसमें तेरा होना जरूरी है 
    Andhera rha har dil Jo,
                   Sham gai tere bin.
    Par sham yh Jo he,
              Isme tera hona jaruri he.
    =============================
    जब सुबह-सुबह मुझको मिलती है तेरी खुशबू 
    हर सुबह मुझे लगता है जिंदगी मेरी पूरी है 
    हाथों की छुवन मेरे भीतर तक पहुंचती है 
    मैंने तो कहा ही था तेरा छूना जरूरी है 
    Jab subha subha mujko milti he teri kushbu,
    Har Subha muje lagta he jindgi meri Puri he.
    Hathi ki chuvn mere bhitar tak pahuchti he,
    Maine to kaha hi tha tera chhuna jaruri he.
    =============================
    मैं देख रहा प्रस्तुत दुनिया का निमंत्रण है, 
    पर नहीं दिया दुनिया ने जो होना जरूरी है..!
    Me dekh rha prstut duniya ka niyntrn,
    Par nahi diya duniya ne Jo hona jaruri tha.
    =============================
    अब तो बड़ी फुरसत से आराम से बैठा हूं,
    आओ बातें जरा कर ले जो बातें अधूरी है..!
    अब तो रहा हूं मैं दस्तूर जमाने का,
    अब मौत भले आए पर कोशिश पूरी है!
    Ab to badi fursat se aaram se betha hu,
    Aao bate jara Kar le jo bate adhuri he..!
    Ab to rha hu me dastur jamane ka,
    Ab not bhale aye par koshish pari he..!
    =============================

    No comments:

    Post a comment

    Please do not enter any spem links in the comment box

    Popular Posts

    Contact Form

    Name

    Email *

    Message *

    Follow by Email